Vedic Astrology

लग्न कुंडली में लग्नेश और चन्द्र की नवांश राशि को नोट कर लें । शनि, राहु, केतु षष्ठेश, अष्टमेश आदि का गोचर में भ्रमण जब उस नवांश राशि या उसके त्रिकोण में हो तो शारीरिक चिंता, व्याधि, चोट, दुर्घटना आदि की संभावना हो सकती है।

 

A person suffers from health problems or meets with accident when Saturn, Rahu, Ketu, Sixth House Lord and/or Eighth House Lord transits in trinal sign(s) or over the Navamsha Rashi of Lagnesh and/or Chandra (Moon).